Wednesday , May 31 2023
Home / भोजपुरी सिनेमा / भोजपुरी गाना / सेलिब्रिटी / 2016 में सेलिब्रिटी के ट्वीट से हुए विवाद, रियो ओलंपिक पर घिरीं शोभा डे

2016 में सेलिब्रिटी के ट्वीट से हुए विवाद, रियो ओलंपिक पर घिरीं शोभा डे

सोशल मीडिया के इस युग में कई हस्तियों के ट्वीट को लेकर इस वर्ष खासा विवाद देखने को मिला, वहीं एक पोस्ट ने पाकिस्तान के एक अदने से चाय वाले को हीरो बना दिया। इस मंच की अहमियत इससे समझी जा सकती है कि गुजरात की पहली महिला मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने फेसबुक के जरिए अपने पद से इस्तीफे की पेशकश की। इस वर्ष रियो ओलंपिक में भारतीय दल के निराशाजनक प्रदर्शन को लेकर लेखिका और स्तंभकार शोभा डे के ट्वीट को लेकर खासा विवाद देखने को मिला। लेखिका ने आठ अगस्त को एक ट्वीट कर कहा, ‘ओलंपिक में टीम इंडिया का लक्ष्य : रियो जाओ। सेल्फी लो। खाली हाथ वापस आओ।’ उन्होंने साथ ही कहा था, ‘रुपये और समय का गजब नुकसान।’ शोभा डे की इस टिप्पणी के लिए, वर्ष 2008 के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता निशानेबाज अभिनव ब्रिंदा, बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा और टेनिस खिलाड़ी सोमदेव देव बर्मन समेत अन्य खिलाड़ियों एवं आम लोगों ने उनकी आलोचना की। क्रिकेट और अपनी चुटीली टिप्पणियों के लिए मशहूर क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग एवं सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने भी खिलाड़ियों का समर्थन किया।kapil-sharma-620x400

मशहूर कॉमेडियन और अभिनेता कपिल शर्मा ने नौ सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक ट्वीट किया, जिसके बाद वह सुर्खियों में आ गये। कपिल ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं विगत पांच वर्षों से 15 करोड़ रुपये आयकर के रूप में अदा कर रहा हूं और कार्यालय बनाने के लिए अब भी मुझको रिश्वत के रूप में पांच लाख रुपये बीएमसी को देना है।’ एक अन्य ट्वीट में कपिल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनावी वादे पर चुटकी लेते हुए कहा, ‘क्या यही हैं आपके अच्छे दिन?’ अपने जमाने के दिग्गज अभिनेता रिषि कपूर हमेशा अपने ट्वीटों के कारण विवादों में घिर जाते हैं। इस साल 17 मई को ट्वीट कर उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस द्वारा गांधी परिवार के नाम पर रखी गयी संपत्तियों के नाम बदलिए। बांद्रा…वर्ली सी लिंक का नाम लता मंगेशकर या जेआरडी टाटा लिंक रोड रखिए। बाप का माल समझ रखा था?’ उन्होंने साथ ही कहा, ‘हम लोगों को देश की अहम संपत्तियों का नामकरण वैसे लोगों के नाम पर करना चाहिए, जिन्होंने समाज के लिए योगदान किया है। हर चीज गांधी के नाम पर। मैं सहमत नहीं हूं।’

अपने सिलसिलेवार ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘फिल्म सिटी का नाम दिलीप कुमार, देव आनंद, अशोक कुमार या अमिताभ बच्चन के नाम पर रखा जाना चाहिए? राजीव गांधी उद्योग क्या होता है? सोचो दोस्तो।’ कपूर ने कहा, ‘क्यों इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा? महात्मा गांधी, भगत सिंह, अंबेडकर या मेरे ऋषि कपूर के नाम पर क्यों नहीं? इतना सतही। क्या कहना है?’ उनकी इस टिप्प्णी के बाद पक्ष और विपक्ष दोनों तरह के पोस्ट ट्विटर पर छा गये। इसके पहले पिछले वर्ष उन्होंने महाराष्ट्र में गोमांस को प्रतिबंधित किये जाने का विरोध करते हुए सिलसिलेवार ट्वीट किये थे। हाल ही में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के उस ट्वीट ने विवाद पैदा कर दिया, जिसमें उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री कार्यालय के आसपास भारतीय सेना के जवानों की मौजूदगी पर कड़ा विरोध जताया था। उन्होंने कहा था कि वह लोकतंत्र की रक्षा के लिए तब तक सचिवालय में रहेंगी, जब तक कोलकाता से सेना हटा न ली जाए। हालांकि सेना ने साफ किया था कि वह हर वर्ष होने वाले नियमित अभ्यास के सिलसिले में कोलकाता में तैनात थी। इसके अलावा ट्विटर पर गायक अभिजीत एवं कमाल आर खान :केआरके: के कई ट्वीट भी विवादों में रहे।

इस साल अक्तूबर में पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद के इतवार बाजार में चाय बेचने वाले एक किशोर का फोटो भारतीय उपमहाद्वीप में सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। भारत और पाकिस्तान के संबंधों में तल्खी के बीच नीली आंखों वाले इस किशोर के फोटो को दोनों देशों के लोगों ने खूब सराहा। फोटोग्राफर जिया अली ने इस किशोर का फोटो सबसे पहले इंस्टाग्राम पर डाला, जिसके बाद इसे ट्विटर और फेसबुक पर जमकर सर्च और शेयर किया गया। किशोर की पहचान कोहाट जिले के 18 वर्षीय अरशद खान के रूप में हुई। बाद में अरशद को मॉडलिंग के अनुबंध मिले और उसके साक्षात्कार के लिए मीडियाकर्मियों की कतार देखने को मिली। वहीं इस साल के अगस्त महीने की शुरुआत में आनंदीबेन पटेल ने गुजरात के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने की पेशकश के लिए फेसबुक को चुना। लंबे समय तक गुजरात सरकार में मंत्री रहीं आनंदीबेन वर्ष 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद राज्य की 15वीं मुख्यमंत्री बनी थीं। वह इस पद पर आसीन होने वाली पहली महिला रहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *