लखनऊ आउटर रिंग रोड पर बनेंगे 12 FOB, 26 अंडरपास

high-way

लखनऊ में 104 किमी लम्बी आउटर रिंग रोड पर 12 फुट ओवरब्रिज और 26 अंडरपास भी बनेंगे। नैशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) ने यह फैसला दुर्घटनाओं को रोकने के लिए उठाया है। इससे न केवल आउटर रिंग रोड के किनारे बसे गांवों के लोगों को फायदा होगा बल्कि लंबा चक्कर काटने से भी निजात मिलेगी।

सोमवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के प्रतिनिधि दिवाकर त्रिपाठी ने बताया कि शनिवार को लखनऊ में गृह मंत्री के राजधानी स्थित आवास पर एनएचएआई के अफसरों के साथ अहम बैठक हुई। इसमें आउटर रिंग रोड का निर्माण साल 2018 तक पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया। इसी बैठक में ये नए फैसले भी लिए गए। उन्होंने बताया कि समूचे मार्ग पर स्ट्रीट लाइट्स भी लगवाई जाएंगी।
बैठक में फैसला हुआ कि ट्रक ड्राइवरों के आराम और भारी वाहनों की पार्किंग के लिए 2 ट्रक लेन भी बनाए जाएंगी। इसके लिए सर्विस लेन से हटकर दो जगहों पर 500 लम्बा और 20 मीटर चौड़ा ट्रैक बनेगा। इसके अलावा 28 जगह पर बस-वे बनेंगे। यहां यात्री बसों के रुकने की व्यवस्था होगी और यात्रियों के बैठने के लिए कुर्सियां-बेंच लगवाई जाएंगी।

जनवरी में शुरू होगा पहला फेज

आउटर रिंग रोड के पहले फेज का निर्माण जनवरी 2017 से शुरू होगा। इस फेज में फैजाबाद रोड से सीतापुर रोड के बीच 30 किमी सड़क बनाई जाएगी। इसके लिए करीब 700 करोड़ रुपये मुआवजा किसानों को दिया जाएगा जबकि करीब 800 करोड़ रुपये निर्माण कार्य में खर्च होंगे। लखनऊ के 12 और बाराबंकी के 15 गांवों की जमीनों का अधिग्रहण कर लिया गया है।

दूसरा फेज : नोटिफिकेशन फरवरी में

दूसरे फेज में कुर्सी रोड से सीतापुर रोड के बीच 32 किमी सड़क का निर्माण होगा। इसके लिए 850 करोड़ रुपये का मुआजवा किसानों को दिया जाएगा जबकि 950 करेाड़ रुपये निर्माण में खर्च होंगे। फरवरी तक भूमि अधिग्रहण के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया जाएगा।

तीसरे फेज में बेहटा से सुलतानपुर रोड तक निर्माण

तीसरे फेज में बेहटा कुर्सी रोड से सुलतानपुर रोड के बीच 32 किमी सड़क बनाई जाएगी। निर्माण में करीब 950 करोड़ रुपये खर्च होंगे जबकि 800 करोड़ रुपये किसानों को मुआजवा दिया जाएगा। इसके अलावा 10 किलोमीटर लंबे किसान पथ का निर्माण पील्डब्ल्यूडी करेगा, जो आउटर रिंग रोड में जुड़ेगी।

यह होगा खास

– फोर लेन होगी आउटर रिंग रोड।

-एक लेन की चौड़ाई 9.5 मीटर होगी।

-आउटर रिंग रोड के दोनों किनारों पर सर्विस लेन बनेगी।

-एक सर्विस लेन की चौड़ाई 7.5 मीटर होगी।

– आउटर रिंग रोड के निर्माण में पांच हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे।

– गृह मंत्री ने इस प्रॉजेक्ट को एनएचएआई को दो साल में पूरा करने को कहा है।