गोरखपुर :डीडीयू इंजीनियर पर ठेकेदार ने किया हमला

ddu-07-01-2017-1483806637_storyimageदीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय (डीडीयू) की हीरापुरी कालोनी में बन रहे पार्क के विवाद को लेकर शनिवार को ठेकेदार ने जूनियर इंजीनियर श्रवण कुमार पर हमला बोल दिया। आरोप है कि हीरापुरी कालोनी में शिक्षकों के सामने गाली-गलौच हुई। इसके बाद जेई, अधिकारियों से शिकायत करने प्रशासनिक भवन गये तो ठेकेदार ने दल-बल के साथ वहां पहुंचकर हमला बोल दिया। हमले का दृश्य सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया है। जूनियर इंजीनियर की तहरीर पर पुलिस ने ठेकेदार राकेश शाही, उसके बेटे आकाश सहित आधा दर्जन लोगों के खिलाफ एससी/ एसटी एक्ट और मारपीट का केस दर्ज किया है।

जूनियर इंजीनियर पर हमला होते देख विवि कर्मचारी उधर की ओर दौड़े लेकिन तब तक हमलावर फरार हो चुके थे। कर्मचारियों ने प्रशासनिक भवन के सभी दफ्तरों को बंद करा दिया और नारेबाजी करते हुये कुलपति कार्यालय में पहुंच गये। तब तक कैंट इंस्पेक्टर और विवि पुलिस चौकी इंचार्ज भी मौके पर पहुंच चुके थे।

कर्मचारियों ने कुलपति प्रो.अशोक कुमार से पुलिस अधिकारियों से बात कर हमलावरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कराने की मांग की। कुलपति ने उन्हें इसका आश्वासन दिया। इसके बाद पुलिस ने जिला अस्पताल में जूनियर इंजीनियर श्रवण कुमार का चिकित्सकीय परीक्षण कराया और उनकी तहरीर पर कैंट थाने में मुकदमा दर्ज कर लिया।

ये था घटनाक्रम : हीरापुरी कालोनी में बन रहे पार्क के दक्षिण तरफ की दीवार ऊंची किये जाने को लेकर शिक्षकों की शिकायत पर शिक्षक संघ अध्यक्ष डा.सुधाकर लाल ने इंजीनियर श्रवण कुमार को फोन किया था। उन्होंने ठेकेदार राकेश शाही से भी मामले की शिकायत की। शनिवार 11 बजे के करीब पार्क के पास शिक्षकों ने ठेकेदार को दीवार ऊंची करने को लेकर उलाहना दिया। शिक्षकों का कहना था कि पार्क की दीवार ज्यादा ऊंची नहीं होनी चाहिये बल्कि ऊपरी हिस्से में जाली लगाई जानी चाहिये। ताकि अंदर की गतिविधियों पर बाहर से नज़र रखी जा सके। शिक्षकों ने निर्माण की गुणवत्ता को लेकर सवाल उठाया और पार्क के पूरब और दक्षिण कोनों पर गेट लगवाने की मांग की। आरोप है कि शिक्षकों की इस बात से असहमत ठेकेदार ने मौके पर जेई को जिम्मेदार ठहरा दिया। ठेकेदार ने कहा कि वह नक्शे और जेई के हिसाब से पार्क बनवा रहा है। इस पर जेई ने आपत्ति की और ठेकेदार को भुगतान रोकने की चेतावनी देते हुए शिक्षकों की मांग के अनुरूप काम करने की हिदायत दी। इस पर ठेकेदार भड़क गया। ठेकेदार-जेई के बीच तू-तू, मैं-मैं होने लगी तो शिक्षकों ने बीच बचाव करके दोनों को शांत करा दिया। जेई श्रवण कुमार वहां से सीधे प्रशासनिक भवन आ गये। 15 मिनट बाद वहां अपने बेटे और साथियों के साथ पहुंचे ठेकेदार ने उन पर हमला बोल दिया।