Tuesday , June 14 2022
Home / पूर्वांचल / जौनपुर / कैश की किल्लत पर ग्रामीणों का हंगामा

कैश की किल्लत पर ग्रामीणों का हंगामा

नोटबंदी के 48 दिन बीत चुके है लेकिन बैंकों की चरमराई व्यवस्था में कोई खास सुधार नहीं हो सका है। एटीएम सेवा अभी भी बेपटरी है। अभी भी तमाम बैंक कैश की किल्लत से जूझ रहे हैं। मंगलवार को खेतासराय में यूबीआई की शाखा से भुगतान न होने पर लोगों ने जमकर हंगामा किया।cash_1482867917-1
 
बैंकों से 24 हजार तक भुगतान का फरमान जरूर जारी हो गया है पर शहरी क्षेत्र के गिने चुने बैंकों के अलावा अन्य किसी भी बैंक से इस फरमान पर अमल नहीं हो पा रहा है। भारतीय स्टेट बैंक की नौपेड़वा शाखा पर मंगलवार को भी सुबह आठ बजे से ही लोगों की लाइन लग गई थी। यहां रुपये निकालने के लिए लाइन में खड़े बेलापार निवासी रामफेर यादव ने बताया कि बैंक से 24 हजार रुपये तक भुगतान करने का फरमान जरूर जारी किया गया है पर यहां अभी भी 10 हजार से अधिक भुगतान नहीं दिया जा रहा है। रामराज विश्वकर्मा भी इसी बैंक पर लाइन में लगे थे। उनका कहना है कि बैंक  में भीड़ अधिक होने के चलते सुबह ठंड में ही आकर लाइन में लगे हैं।

खेतासराय प्रतिनिधि के अनुसार यूबीआई की स्थानीय शाखा पर सुबह से ही लोग पैसे निकालने के लिए पहुंचे थे। बैंक खुलते ही नोटिस चस्पा कर दी गई कि सर्वर फेल होने की वजह से भुगतान नहीं हो सकता। इसी बात पर लोग भड़क गए। बैंक प्रशासन के खिलाफ लोगों ने नारेबाजी शुरू कर दी। यहां लाइन में खड़े लोगों का कहना था कि बैंक को भुगतान नहीं करना होता तो सर्वर फेल होने का सिर्फ बहाना बनाया जाता है। पुलिस ने किसी तरह समझा बुझाकर लोगों को शांत कराया। शाखा प्रबंधक संतोष यादव का कहना है कि बैंक का सर्वर फेल होने के कारण लेनदेन नहीं हो सका।