Tuesday , June 14 2022
Home / Main slide / शाम ढली, गलन बढ़ी

शाम ढली, गलन बढ़ी

शीतलहर और सर्द हवाओं के चलते गलन बढ़ने से परेशान लोगों को दोपहर बाद निकली धूप ने राहत दी। रविवार की शाम से ही मौसम ने अचानक करवट ली और शीतलहर का प्रकोप बढ़ गया। ठंड के कारण जूनियर हाईस्कूल तक  के स्कूल बंद कर दिए गए हैं।
 filled-by-melting-winter-annoy-people_1481304154
रविवार की शाम से शुरू शीतलहर का प्रकोप मंगलवार को सुबह 11 बजे तक रहा। दोपहर से मौसम साफ हुआ और धूप निकलने से लोगों को राहत मिल गई। धूप निकलते ही शहर में लोग घरों की छत पर आ गए। छुट्टी होने के चलते जूनियर हाईस्कूल तक के बच्चों घर पर ही रहे। धूप निकलने पर बच्चों ने भी घर की छतों पर धमाल मचाया। हालांकि सुबह गलन अधिक होने के चलते लोगों को दफ्तार जाने में परेशानी हुई। हाईस्कूल और ऊपर की कक्षा वाले विद्यालय बंद नहीं किए गए हैं जिससे लोगों को स्कूल जाने में भी परेशान होना पड़ा। सबसे अधिक परेशानी सड़कों पर बाइक से चलने वालों को हुई। सर्द हवाओं ने लोगों की मुश्किलें और भी बढ़ा दीं।  

दोपहर में धूप निकलने से ग्रामीण इलाकों में भी लोगों को काफी राहत मिली। धूप निकलते ही किसान खेत में पहुंच गए। सब्जयों की खेती करने वाले किसान ठंडी के चलते अधिक परेशानी में हैं। सुबह शीत में ही गोभी, बैगन, टमाटर, मटर आदि सब्जियां खेत से निकाल कर मंडी तक पहुंचाने में उन्हें काफी दुश्वारियों से गुजरना पड़ रहा है। सब्जी की खेती करने वाले हरदीपुर के किसान मुन्नालाल मौर्य कहते हैं कि सुबह शीत में ही खेत से गोभी के फूल काटकर उसे मंडी तक पहुंचाना होता है। कहा कि खेती है तो परेशानी झेलनी ही होगी। मंगलवार को दोपहर से मौसम साफ जरूर रहा लेकिन शाम ढलते ही फिर गलन बढ़ गई।