Thursday , June 16 2022
Home / Main slide / जनता का सहयोग पाकर विजय यात्रा बनी भाजपा की परिवर्तन यात्रा

जनता का सहयोग पाकर विजय यात्रा बनी भाजपा की परिवर्तन यात्रा

भाजपा की परिवर्तन यात्रा का आज लखनऊ में स्वागत और समापन होगा। उत्तर प्रदेश के चार दिशाओं से निकाली गई भाजपा की परिवर्तन आज लखनऊ की सीमा पर आ गई हैं। अब सुबह होते हीnarendra-modi लखनऊ के हजरतगंज चैराहे पर महापुरूषों की मूर्तियों पर माल्यार्पण और संकल्प के साथ यात्रा का समामन समारोह होगा। भाजपा मानती है कि यह ऐतिहासिक यात्रा जनता का सहयोग लेकर राज्य की सत्ता पर विजय यात्रा का रूप ले चुकी है।

भारतीय जतना पार्टी की परि
वर्तन यात्रा के प्रभारी महेन्द सिंह व प्रदेश प्रवक्ता हृदयनारायण दीक्षित ने कहा कि

भाजपा ने चारों दिशाओं से परिवर्तन यात्राएं निकाल कर यूपी के राजनीतिक इतिहास में इतिहास रचा है। किसी भी दल ने आज तक व्यवस्था परिवर्तन के लिए ऐसी यात्रा नहीं निकाली। परिवर्तन का संदेश देने के लिए 5 नवम्बर को सहारनपुर, 6 नवम्बर को झांसी, 8 नवम्बर को सोनभद्र तथा 9 नवम्बर को बलिया से समारोहपूर्वक प्रारम्भ हुई सभी परिवर्तन यात्राएं प्रदेश के सभी 403 विधानसभाओं से होकर लगभग 17 हजार 162 किमी. से अधिक की दूरी तय कर तथा लगभग 2 करोड़ लोगों से सीधा संवाद किया है। चारों यात्राएं कुल मिलाकर 192 दिन की यात्रा की है।

उन्होंने बताया कि परिवर्तन यात्रा में प्रधानमंत्री ने 6 सभाओं को संबोधित किया। राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, केन्द्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, प्रदेश अध्यक्ष सांसद केशव प्रसाद मौर्य, लघु उद्योग मंत्री कलराज मिश्र, जल संसाधन मंत्री उमा भारती, मनोज सिन्हा, संजीव बालियान, राधा मोहन सिंह, राजवर्धन सिंह राठौर, महेश शर्मा, सहित लगभग 175 नेताओं ने विभिन्न स्थानों पर परिवर्तन यात्रा का नेतृत्व किया तथा जनता से सीधा संवाद किया। राजधानी लखनऊ में जगह-जगह पर भारी संख्या में परिवर्तन यात्रा का कार्यकर्ता स्वागत करेंगे। कल प्रातः 10 बजे से भाजपा प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य हरदोई रोड पर रहीमाबाद में यात्रा का नेतृत्व करेंगे। केन्द्रीय मंत्री उमा भारती ब्रेक प्वाइन्ट ढाबा फैजाबाद रोड, केन्द्रीय मंत्री कलराज मिश्र नगराम मोड रायबरेली रोड से तथा सीतापुर रोड़ पर इंटौजा से नेता विधान मण्डल दल सुरेश खन्ना परिवर्तन यात्रा का प्रातः 10 बजे नेतृत्व करेंगे।