Wednesday , June 15 2022
Home / Main slide / मरती है दुनिया जिसकी पर्सनालिटी पर, अपना अक्स देख तोड़ देता शीशा

मरती है दुनिया जिसकी पर्सनालिटी पर, अपना अक्स देख तोड़ देता शीशा

PASADENA, CA - JANUARY 16: Arnold Schwarzenegger attends the 2014 TCA Winter Press Tour - CBS/CW/Showtime Panels at The Langham Huntington Hotel and Spa on January 16, 2014 in Pasadena, California. (Photo by JB Lacroix/WireImage)

हॉलीवुड एक्टर अर्नाल्ड श्वार्जनेगर का कहना है कि जब कभी वह शीशे में अपना अक्स देखते हैं, शीशे को फेंक देते हैं, क्योंकि उन्हें अपना लुक अच्छा नहीं लगता। 69 वर्षीय अभिनेता और पूर्व बॉडीबिल्डिंग चैंपियन का कहना है

कि वह हमेशा खुद के आलोचक रहे हैं। जब उनका शरीर सबसे बढ़िया आकार में था, तब भी उन्हें अपने शारीरिक बनावट से शिकायत थी और अब भी उन्हें अपना शारीरिक बनावट पसंद नहीं है।

श्वार्जनेगर ने कहा, “जब मैं खुद को शीशे में देखता हूं, तो शीशा फेंक देता हूं। मैं पहले से ही खुद का आलोचक रहा हूं, यहां तक कि जब मैं सबसे बढ़िया शारीरिक बनावट में था तब भी अपना आलोचक था।”

लगातार सात साल चैंपियन के खिताब से नवाजे जाने के बावजूद उन्हें खुद में कमी महसूस होती थी।

उन्होंने बताया कि मिस्टर ओलम्पिया और अन्य खिताब जीतने के बावजूद भी उन्हें खुद में कमी नजर आती थी।

हालांकि, अपने व्यक्त्वि से नाखुश श्वार्जनेगर को यह महसूस नहीं होता है कि वह जल्द ही 70 साल के हो जाने वाले हैं। दो दशक पहले उनका जैसा रहन-सहन था वह आज भी कायम है।

श्वार्जनेगर कहते हैं कि उन्हें अपनी बढ़ती उम्र का अहसास नहीं होता है और जैसे 20 साल पहले वह सबकुछ करते थे, वैसा आज भी करते हैं।