रात में UP के 3 शहरों में पुलिस-बदमाश के बीच मुठभेड़, ईनामी बदमाश छन्नु को गोली लगी

यूपी में बीती रात दो शहर और मंगलवार सुबह एक शहर में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई।गोरखपुर, आजमगढ़ और सहारनपुर में मुठभेड़ हुई है। इस मुठभेड़ में 25 हजार का ईनामी बदमाश मारा गया। आजमगढ़ में आज सुबह मुठभेड़ में बदमाश छ्न्नु सोनकर को गोली लगी। छन्नु पर एक दर्जन लोगों की हत्या और लूट का आरोप है। इस मुठभेड़ में एस ओ जहानागंज अंगद तिवारी की बुलेट प्रूफ जैकेट में भी गोली लगी और एक सिपाही सुभाष को भी गोली लगी है।

आजमगढ़ में मुठभेड़

गलवार की सुबह एक बार फिर आज़मगढ़ पुलिस की बदमाशो से मुठभेड़ हो गई।इस मुठभेड़ में इनामी बदमाश मारा गया। वही एक सिपाही भी गोली लगने से घायल हो गया। इस घटना में बदमाशों की गोली से एसओ भी बाल बाल बच गए।

जहानागंज के पास सोमवार रात साढ़े 10 बजे एक महिला कर्मचारी से लूट करने की नीयत से दो बदमाशों ने असलहा दिखाया। कर्मचारी ने किसी तरह एक घर मे घुसकर अपना पीछा छुड़ाया। लेकिन 100 नम्बर पर इसकी सूचना दे दी। 100 नम्बर पुलिस मौके पर पहुंचने के दौरान पेड़ से टकरा गई। इस बीच ये बदमाश भी कोहरे की चपेट में आकर घायल हो गए। एक भाग गया, पुलिस एक को पकड़ कर अस्पताल ले जाने लगी,इतने में यह शातिर पुलिस की रिवाल्वर निकाल कर भाग निकला।

आसपास के थानों में मैसेज चला गया।रात भर सर्च अभियान चला। सुबह साढ़े 4 बजे जहानागंज के जैगहा के पास बाइक सवार दो युवक आते दिखाई दिए। एसओ मुबारकपुर और एसओ जहानागंज की गाड़ी देख युवक फायर कर भागने लगे। एक गोली मुबारकपुर एसओ की गाड़ी में लगी।दूसरी गोली एसओ जहानागंज अंगद तिवारी को लगी। बुलेटप्रूफ जैकेट की वजह से उन्हें कोई नुकसान नही हुआ। एक सिपाही सुभाष को भी गोली लग गई। पुलिस ने भी फायरिंग शुरू कर दी। एक बदमाश तो चम्पत हो गया,वहीं दूसरे को गोली लग गई।घायल देख पुलिस ने फायरिंग बन्द कर उसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए।वहाँ से उसे सदर अस्पताल ले जाया गया। इलाज के दौरान सुबह साढ़े 6 बजे उसने दम तोड़ दिया।

एसपी अजय साहनी ने बताया कि छन्नू 3 महीने पहले ही जेल से बाहर आया था।उसके ऊपर आज़मगढ़ मउ ज़िले में हत्या लूट की कई घटनाओं को अंजाम देने का डेढ़ दर्जन से अधिक मुकदमा है।2009 में एक चर्चित हत्याकांड को उसने अंजाम दिया था।उसके ऊपर 25 हज़ार का इनाम था।उसके दूसरे साथी की तलाश की जा रही है।उसके पास से एक लूट की बाइक व तमंचा बरामद हुआ है।घायल सिपाही सदर अस्पताल में खतरे से बाहर है।

गोरखपुर में मुठभेड़ 

पुलिस पर फ़ायरिंग कर भाग रहे शातिर बदमाश को सोमवार की आधी रात में पुलिस मुठभेड़ में क्राइम ब्रांच और ख़ोराबार पुलिस ने सिक़्टौर के पास से दबोच लिया। पुलिस की जवाबी फ़ायरिंग में बदमाश के पैर में गोली लगी है। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं उसका एक साथी फ़रार हो गया है।

घायल बदमाश की पहचान 30 वर्षीय अमित के रूप में हुई है। उसके  बाएं पैर में घुटने के नीचे गोली लगी है। उसका एक साथी पुलिस से बचकर भाग निकला है। उसकी तलाश की जा रही है। अमित के पास से नाइन एमएम पिस्टल और उसकी बाइक बरामद हुई है।

सीओ कैंट ने बताया कि राजघाट थानेदार रात में साढ़े दस बजे के आसपास ट्रांसपोर्टनगर में वाहन चेकिंग कर रहे थे। उसी दौरान दो युवक बाइक से आते हुए दिखाई दिए। रुकने का इशारा करने पर उन्होंने बाइक की रफ्तार बढ़ा दी और पैडलेगंज की तरफ भागने लगे। पुलिस के पीछा करने पर पैडलगंज से सर्किट हाउस रोड होते हुए सिक्टौर की तरफ भागने लगे।

इस बीच वायरलेस पर बदमाशों के भागने की सूचना प्रसारित होने पर खोराबार और कैंट पुलिस ने सिक्टौर के पास पहुंचकर बदमाशों को पकडऩे के लिए दूसरी तरफ से घेराबंदी कर ली थी। दोनों तरफ से घिरने पर बदमाशों ने पुलिस टीम पर गोली चलानी शुरू कर दी। जवाबी जवाबी कार्रवाई में एक बदमाश गोली लगने घायल हो गया लेकिन उसका साथी अंधेरे में पैदल ही भाग निकला।

बाद में घायल बदमाश की पहचान खोराबार के मंझरिया बिस्टौल गांव निवासी अमित के रूप में हुई। पुलिस का दावा है कि खोराबार इलाके में हुई लूट की एक घटना में वह वांछित चल रहा था। जनपद के विभिन्न थानों में उसके खिलाफ लूट व छिनैती के आधा दर्जन से अधिक मुकदमे दर्ज हैं। उसके विरुद्ध गैंगेस्टर की कार्रवाई हुई थी। नवम्बर में जमानत पर छूट कर जेल से बाहर आया था।