श्रीचैनरामबाबा के समाधि स्थल पर 51 जोड़े एक दूजे के हुए

सहतवार (बलिया) : युवा शक्ति संस्थान के तत्वावधान में श्रीचैनरामबाबा के समाधि स्थल परिसर में सोमवार को 51 जोड़े (वर-वधु) एक दूजे के हो गए।

मुख्य वेदाचार्य आचार्य दयाशंकर पाठक व उनके सहयोगी उदयशंकर पाठक, विवेक शुक्ल, रोहित पांडेय, दुर्गा प्रकाश पांडेय आदि प्रकांड विद्वानों ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ सभी वर-वधुओं को जीवन यापन करने की दीक्षा देकर शादी की रस्म पूरी कराई।

इसमें किसी प्रकार का व्यवधान पैदा न हो इसके लिए युवा शक्ति संस्थान के कार्यकर्ता व सहतवार संग कई थाने की पुलिस चक्रमण कर रही थी। सभी 51 वर- वधुओं के लिए 51 मंडप बनाए गए थे। जगह-जगह पानी व लोगों के बैठने के लिए टेंट आदि की व्यापक व्यवस्था की गई थी। शादी के बाद कार्यक्रम आयोजक सहतवार पश्चिम टोला निवासी अशोक सिंह  पुत्र श्रीकृष्ण सिंह ने कन्यादान कर सभी वर-वधुओं को पलंग, कपड़ा संग गृहस्थी के अन्य सामानों के साथ विदाई की। क्षेत्र के राजेश्वर दास, परमात्मा पांडेय, दिग्विजय चौबे, लल्लन सिंह धर्मनाथ सिंह, नीरजसिंह गुड्डू’, हीरालाल वर्मा, सन्तोष गुप्ता ,बंशी सिंह , राजेश्वर  नेता, आदि ने वर वधुओं को अशीर्वाद दिया। शादी की रस्म के लिए सहतवार, हुसेनाबाद, खोरौली, गंगापुर, रेवती, बलेऊर, पकहां, झरकटहां, बिसौली, भोजपुर, बैरिया आदि कई जगहों के वर-वधु सुबह से ही जुटने शुरू हो गए थे। क्षेत्र के लोग भी शादी की रस्म देखने के लिए उमड़ पड़े थे। इससे पूरा चैनराम बाबा का प्रांगण शादीमय हो गया था। कहीं डीजे की धुन पर लोग थिरक रहे थे तो कहीं बैंडबाजे की धुन पर लोग खुशी का इजहार कर रहे थे।