लाखो की शराब के साथ तस्कर गिरफ्तार

बलिया ;उभांव पुलिस व स्वॉट टीम ने शुक्रवार की रात करीब 57 लाख रुपये मूल्य की अंग्रेजी शराब के साथ एक तस्कर को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस को मौके से दो लग्जरी चार पहिया गाड़िया भी मिली। रात में अंधेरा का फायदा उठाकर तीन तस्कर फरार हो जाने में कामयाब हो गये। पुलिस सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर तलाश करने में जुट गयी है।

पुलिस को इलाके में अवैध शराब की बड़ी खेप पहुंचने की खबर मिली थी। मुखबिर से मिली इस सूचना पर एसओ उभांव रत्नेश सिंह तथा स्वॉट टीम इलाके में शराब की खेप की तलाश कर रहे थे। इसी बीच पुलिस की नजर तुर्तीपार श्मशान घाट बागीचे में पड़ी तो टीम मौके पर पहुंच गयी। पुलिस को देख तीन तस्कर फरार हो जाने में कामयाब हो गये, जबकि मौके से सुखपुरा थाना क्षेत्र के बेरुआरबारी निवासी मुलायम यादव को पकड़ लिया गया। पुलिस ने बागीचे में रखे गये छह सौ पेटी, जिसमें करीब 28 हजार 800 शीशी पंजाब निर्मित व्हीस्की थी, बरामद हुई। मौके से दो लग्जरी कार भी पुलिस के हाथ लगी, जिनमें एक स्कार्पियो (यूपी 60 जे-4019) तथा टाटा बोल्ट कार (नम्बर यूपी 60 एए-3645) शामिल है।

पुलिस के अनुसार बरामद शराब की कीमत करीब 57 लाख 50 हजार रुपये है। इस मामले में फरार तस्करों सुखपुरा थाना क्षेत्र के तपनी निवासी अखिलेश यादव, सुखपुरा थाना क्षेत्र के बेल्लारी निवासी संगम यादव तथा मनियर निवासी रंजीत यादव के खिलाफ केस दर्ज कर खोजबीन की जा रही है।

निकाय चुनाव में खपत के लिये पहुंची थी दारु
घाघरा नदी के तट पर तुर्तीपार श्मशान घाट के बागीचे से पकड़ी गयी शराब की खपत नगर निकाय चुनाव में होने वाली थी। सूत्रों की मानें तो तस्करों ने डिमांड के हिसाब से ही दारु को मंगाया था। बागीचे में दारु उतारने के बाद उसे लग्जरी गाड़ियों से सप्लाई की जाती। इससे पहले ही संयोग से इसकी भनक पुलिस को लग गयी। दरअसल चुनाव में लाख प्रयास के बाद भी मतदाताओं को लुभाने के लिये पैसा, दारु बांटने से उम्मीदवार बाज नहीं आते। हर बार की तरह इस बार भी कई उम्मीदवार इस हथकंडे को अपना रहे हैं। बताया जाता है कि कुछ उम्मीदवारों की ओर से तस्करों से शराब मंगवाया गया था।