बलिया में ताजिये की जलूस के दौरान हिसा,हालात नियंत्रण में

बलिया।सिकन्दरपुर कस्बे में रविवार की शाम ताजिया जुलूस के दौरान एक अफवाह ने माहौल को इस कदर बिगाड़ा कि दो पक्ष आमने-सामने आ गये। इस दौरान उपद्रवियों ने दुकानों में तोड़फोड़ और लूटपाट की, दो साइकिलों व दो बाइकों को आग के हवाले कर दिया। चाकू से हमला कर आधा दर्जन लोगों को घायल कर दिया। दोनों ओर से जबरदस्त ईंट-पत्थर चले। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े।

कमिश्नर और डीआईजी मौके पर पहुंच गये। पूरे कस्बे में पुलिस के जवान तैनात कर दिये गये। धारा 144 लगाने के साथ ही प्रशासन ने इलाके में सख्ती बढ़ा दी है। आसपास के जिलों से भी पुलिस फोर्स बुलाई गई है।

रविवार की शाम कस्बे के जलपा चौक व रसिदिया मस्जिद के बीच से ताजिया जुलूस गुजर रहा था। 14 ताजियों में सबसे पीछे डोमनपुरा की ताजिया चल रही थी। इसी बीच एक दिन पहले हुए विवाद को लेकर पत्थरबाजी की अफवाह किसी ने उड़ा दी। इससे अचानक माहौल बिगड़ गया। देखते ही देखते दो पक्ष आमने-सामने आ गये और ईंट-पत्थर चलने लगे। आसपास की चार दुकानों में धावा बोलकर लूटपाट की गई। दो बाइकों व दो साइकिलों को आग के हवाले कर दिया गया। आधा दर्जन लोगों पर धारदार हथियार से हमला कर घायल कर दिया गया।

दोनों ओर से पथराव में दर्जनों लोग चोटिल हो गये। हालात बिगड़ते देख पुलिस व पीएसी के जवानों ने मोर्चा सम्भाल लिया। इसी बीच सिकन्दरपुर थाने पर तैनात एसआई धर्मेन्द्र कुमार की बाइक को भी चांदनी चौक के पास भीड़ ने क्षतिग्रस्त कर दिया। हालात बेकाबू होते देख पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे गए। इससे भीड़ तितर-बितर हो सकी। देर शाम तक माहौल अराजक बना रहा और पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी दोनों पक्षों को शांत कराने के प्रयास में जुटे रहे। कमिश्नर के रविन्द्र नायक व डीआईजी विजय भूषण भी मौके पर पहुंच गये थे। चाकूबाजी और पथराव में घायल लोगों को पुलिस ने सीएचसी सिकन्दरपुर पहुंचाया। प्राथमिक इलाज के बाद तीन लोगों को जिला अस्पताल रेफर किया गया है।