यूएन में पाकिस्तान पर भारत का पलटवार- कश्मीर हमारा, कोई गलतफहमी नहीं पाले ‘टेररिस्तान

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी के झूठ पर भारत ने पलटवार किया है. भारत ने कहा है कि पाकिस्तान आतंकियों का गढ़ है और दुनिया को मानवाधिकार पर पाकिस्तान के ज्ञान की जरूरत नहीं है. पाकिस्तान अपनी ही जमीन पर मानवाधिकारों का उल्लंघन करता रहा है. भारत ने यह भी कहा कि पाकिस्तान को यह समझ लेना चाहिए जम्मू कश्मीर हमारा अभिन्न हिस्सा है.

यूएन में भारत की प्रथम सचिव ईनम गंभीर ने पाकिस्तान को ‘टेररिस्तान’ करार देते हुए कहा कि वह लगातार आतंकियों को पनाह देता रहा है. यह देश आज पूरी तरह आतंक को पैदा कर रहा है. यह असाधारण है कि एक स्टेट जो ओसामा बिन लादेन और मुल्ला उमर को पनाह देता है, पीड़ित होने का दिखावा कर रहा है.

भारत ने कहा कि अपने एक छोटे से इतिहास में पाकिस्तान आतंक का पर्याय हो गया है. दुनिया को मानवाधिकार पर पाकिस्तान के ज्ञान की जरूरत नहीं है, जो अपनी ही धरती पर मानवाधिकारों का उल्लंघन कर रहा है. गंभीर ने कहा कि पाकिस्तान अब टेररिस्तान बन गया है. भारत का पड़ोसी देश आतंक को पैदा कर रहा है और वैश्विक स्तर पर इसे फैला रहा है.

पाकिस्तान ने उठाया सीजफायर का मामला

दूसरी ओर भारत के जवाब के बाद पाकिस्तान ने अपने जवाब में सीजफायर का मामला उठाया और सीमा पर सीजफायर के उल्लंघन के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया.

शाहिद खाकान अब्बासी ने फिर अलापा कश्मीर राग

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान ने एक बार फिर कश्मीर पर अपना पुराना राग अलापा है. आम सभा में प्रधानमंत्री शाहिद अब्बासी ने दावा किया कि कश्मीर मसले पर भारत ने सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव का पालन नहीं किया है. वहीं, दूसरी तरफ ब्रिक्स मंत्रिस्तरीय मीटिंग के मंच से सुषमा स्वराज ने कहा है कि दक्षिण एशिया में ऐसे देश हैं, जो आतंकवाद को शरण दे रहे हैं.