रिटायरमेंट से एक दिन पहले घूस लेते सीएंडडीएस का प्रोजेक्ट मैनेजर गिरफ्तार

एंटी करप्शन टीम ने ककरमत्ता (जानकीनगर) स्थित कार्यालय में मंगलवार को ठेकेदार से 20 हजार रुपये घूस लेते सीएंडडीएस के प्रोजेक्ट मैनेजर योगेश्वर प्रसाद पांडेय को रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया। टीम योगेश्वर प्रसाद को भेलूपुर थाने ले आयी और उनके खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज करायी है। योगेश्वर प्रसाद गुरुवार को रिटायर होने वाले थे।

चोलापुर के लश्करपुर गांव के प्रधान राममिलन सिंह जल निगम के ठेकेदार हैं। उन्होंने बताया कि बजरडीहा के सोनबरसा मोहल्ला स्थित कब्रिस्तान की चहारदीवारी बनाने का उन्होंने सीएंडडीएस (जलनिगम की कार्यदायी संस्था) से दस लाख रुपये का ठेका लिया था। चहारदीवारी एक साल पहले तैयार हो गयी और साढ़े छह लाख रुपये का भुगतान भी हो गया। शेष 3.50 लाख के भुगतान के लिए ठेकेदार एक साल से सीएंडडीएस कार्यालय के चक्कर लगा रहा था।

परेशान होकर ठेकेदार ने परियोजना प्रबंधक योगेश्वर प्रसाद से बात की तो उन्होंने 30 हजार रुपये घूस की मांगा। बाद में दोनों में तय हुआ कि भुगतान के वक्त 20 हजार रुपये और उसके बाद ठेकेदार दस हजार रुपये देगा। ठेकेदार ने एंटी करप्शन (भ्रष्टाचार निवारण संगठन) के पुलिस लाइन स्थित कार्यालय गया। वहां डिप्टी एसपी प्रेमशंकर दुबे से शिकायत की। डिप्टी एसपी ने परियोजना प्रबंधक की गिरफ्तारी के लिए इंस्पेक्टर रामसागर, एसआई नरेंद्र कुमार सिंह, कांस्टेबल पुनीत यादव, राजकुमार पाल, विजय प्रधान, रामनेरश चौबे की टीम बनायी।मंगलवार को ठेकेदार केमिकल लगे 20 हजार रुपये लेकर सीएंडडीएस कार्यालय पहुंचा। जैसे ही रुपये परियोजना प्रबंधक ने हाथ में लिया आसपास मौजूद टीम ने गिरफ्तार कर लिया। परियोजना प्रबंधक का मौके पर हाथ धुलवाया गया तो लाल हो गया।