Tuesday , June 14 2022
Home / प्रादेशिक / उत्तर प्रदेश / जौनपुर में बोले राहुल, ‘गरीबों से खींचना और अमीरों को सींचना है नोटबंदी’

जौनपुर में बोले राहुल, ‘गरीबों से खींचना और अमीरों को सींचना है नोटबंदी’

rahul-gandhi-1482143767

जौनपुर (LNTNEWS): कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांघी ने जौनपुर में कांग्रेस की रैली के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जोरदार हमला किया। उन्होंने नोटबंदी के मुद्दे पर पीएम मोदी को घेरते हुए कहा, ‘सभी नकदी काला धन नहीं है और सभी काला धन नकदी में नहीं है।’

उन्होंने केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा नोटबंदी के कदम को देश की 99 प्रतिशत गरीब और ईमानदार जनता पर फायर बॉम्बिंग करार देते कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि वे गरीबों से खींचो, अमीरों को सींचो की नीयत से लिये गये निर्णय के असल मकसद को हर गरीब, मजदूर और ईमानदार हिन्दुस्तानी तक पहुंचायें।

राहुल ने यहां आयोजित जनाक्रोश रैली में विमुद्रीकरण के कदम को गरीबों के पैसे से अमीरों का कर्ज माफ करने की कवायद करार देते हुए कहा कि नोटबंदी की सचाई गरीबों से खींचो, अमीरों को सींचो है। मोदी ने काले धन पर सर्जिकल स्ट्राइक  नहीं किया बल्कि हिन्दुस्तान के गरीबों, किसानों और ईमानदारों पर फायर बॉम्बिंग की है। आज गरीब लोगों के पास इलाज के लिये पैसा नहीं है। सैकड़ों लोग बेरोजगार हो गये हैं। यह काम मोदी की फायर बॉम्बिंग ने किया है।

उन्होंने कहा कि 8 नवम्बर को लिया गया विमुद्रीकरण का निर्णय ना तो भ्रष्टाचार और ना ही कालेधन के खिलाफ था, वह हिन्दुस्तान के गरीबों, किसानों, मजदूरों, 99 प्रतिशत आबादी के खिलाफ था। राहुल ने कहा कि मोदी को चुनाव जीतने में आर्थिक मदद करने वाले धनकुबेरों ने बैंकों से आठ लाख करोड़ रुपये कर्ज लिया है, जिसे वे वापस नहीं कर रहे हैं। मोदी नोटबंदी करके यह चाहते हैं कि गरीबों और ईमानदारों का पैसा ज्यादा से ज्यादा समय तक बैंकों में फंसा रहे, ताकि उससे उन बड़े लोगों का कर्ज माफ किया जा सके।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने आह्वान किया कि पार्टी के हर कार्यकर्ता को विमुद्रीकरण की सच्चाई…. सूटबूट सरकार की सच्चाई पूरे देश को बतानी है। आप घर-घर जाकर हिंदुस्तान के किसान, मजदूर को बताएं कि आपके पैसे पर मोदी ने छापा डाला है, उसे छीना है और आपके पैसे के बल पर देश के सबसे अमीर लोगों का कर्ज माफ होने जा रहा है।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि नरेन्द्र मोदी से हमारी लड़ाई राजनीतिक है, उनके खिलाफ कृप्या मुर्दाबाद का नारा ना लगाएं। ऐसी भाषा का इस्तेमाल आरएसएस करती है, कांग्रेस नहीं।