गाजीपुर: एनएच 29 को फोरलेन बनाने के लिए काम शुरू

sdk

गाजीपुर : योगी सरकार जब से सत्ता में आई है पूर्वांचल में विकास गति पकड़ लिया है वर्षो से विकास के लिए तरस रही इस इलाके की जनता के अच्छे दिन आने के संकेत मिलना शुरू हो गई है। वाराणसी से गोरखपुर तक बनाए गए राष्ट्रीय राजमार्ग  29 को फोरलेन बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा अपनी दूसरी कैबिनेट मीटिंग में फोरलेन का काम तेजी से शुरू करने के आदेश के बाद जिला प्रशासन के अधिकारी पूरी तेजी से लगए गए हैं। जमीन का अधिग्रहण शुरू करने के साथ ही किसानों को मुआवजा बांटने की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

डेढ़ वर्ष पूर्व केन्द्रीय रेल एवं संचार राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार मनोज सिन्हा ने केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्रालय से एनएच 29 पर फोरलेन घोषित कराया था। उसके बाद से ही एनएच 29 को फोरलेन बनाने का कार्य चल रहा था। परन्तु विभागीय अधिकारी भी कछुवा गति से फोरलेन के लिए काम कर रहे थे। उसके बाद जब प्रदेश में भी भाजपा की सरकार बन गई और स्वयं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इसको गंभीरता से लिया तो जिला प्रशासन के अधिकारी तत्काल हरकत में आ गए। एनएच 29 को फोरलेन बनाने के लिए जिला प्रशासन को लगभग 257 हेक्टेयर जमीन की आवश्यकता है। इसके लिए पूरे जनपद की सैदपुर व सदर तहसील के लगभग 99 गांवों के ग्रामीणों से जिला प्रशासन को जमीन अधिगृहीत करनी है। जिसमें अधिकारियों ने 91 गांवों की जमीन का प्रकाशन करा दिया है। इसके अलावा अभी तक जिला प्रशासन ने सैदपुर तहसील क्षेत्र के गांवों के किसानों से लगभग 125 हेक्टेयर जमीन को अधिग्रहीत कर लिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के फोरलेन का मामला संज्ञान में लेते ही इसके नोडल अधिकारी एडीएम आनन्द कुमार पूरी तेजी से लगे हुए हैं। उन्होंने अपने विभाग के लगभग आठ कर्मचारियों व सदर तहसील के बीस कर्मचारियों को एनएच के फोरलेन के लिए जमीन अधिग्रहण करने के कार्य में लगाया हुआ है। जिससे जल्दी से जल्दी कार्य निपट सके। नोडल अधिकारी व एडीएम आनन्द कुमार ने बताया कि फोरलेन के लिए जमीन का अधिग्रहण काफी तेजी से किया जा रहा है। अधिग्रहण के पूर्व किसानों की आपत्तियों का भी निस्तारण किया जा रहा है। आपत्ति का निस्तारण होने के बाद ही किसानों को मुआवजा दिया जा रहा है। कहा कि बहुत शीघ्र ही जमीन का अधिग्रहण कर लिया जाएगा।