शाइन सिटी पर सर्विस टैक्स और एक्साइज इंटेलीजेंस के कंबाइंड आपरेशन के बाद मालिक फरार

 

Capture

 

साइन सिटी के  चेयरमैन राशिद नसीम  पर धोखाधड़ी और टैक्स चोरी के आरोप में तालाश चल रही थी सूत्रों से पता चला है की कल से फरार हो गए है . साइन सिटी का लखनऊ स्थित आफिस को सिलकर दिया गया है .

रियल स्टेट में कारोबार करने वाली कंपनी शाइन सिटी पर सर्विस टैक्स और एक्साइज इंटेलीजेंस के कंबाइंड आपरेशन में करोड़ों का हेर फेर मिला है। मंगलवार की शाम सर्विस टैक्स और एक्साइस इंटेलीजेंस डिपार्टमेंट की टीम ने शाइन सिटी के दफ्तरों पर रेड की थी। सूत्रों की मानें तो शाइन सिटी के संचालक द्वारा 15- 16 कंपनियां चला रहे थे और सर्विस टैक्स की बड़ी मात्रा में चोरी का भी पता चला है। सूत्रों की मानें तो सर्विस टैक्स ना जमा करने का जुर्म स्वीकार करते हुए शाइन सिटी के चेयरमैन राशिद नसीम ने डेढ़ करोड़ रुपये देने की बात खी थी .

पांच लोकेशन पर हुई छापेमारी

जानकारी के अनुसार शाइन सिटी ग्रुप के पांच ठिकानों पर छापेमारी की गयी। इसमें चार ठिकाने राजधानी के गोमतीनगर और एक रायबरेली रोड स्थित पीजीआई क्षेत्र में है। इस छापेमारी में सेल्स टैक्स के डिप्टी कमिश्नर अमित कुमार मिश्रा खुद साथ में थे। खबर लिखे जाने तक छापे मारी की कार्रवाई जारी थी।

पूरे प्रदेश में चलाया जा रहा है अभियान

इस बारे में सेल्स टैक्स कमिश्नर मुकेश मेश्राम ने बताया कि पूरे प्रदेश में सर्विस टैक्स की चोरी करने वालों के खिलाफ अभियान चलाकर रेवेन्यू बढ़ाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अभी तक प्रदेश की 20 करोड़ की आबादी पर सिर्फ 43 हजार करोड़ रुपये ही सर्विस टैक्स के मिल पा रहे हैं। जबकि 6 करोड़ की आबादी वाला गुजरात हमसे चार हजार करोड़ रुपये अधिक रेवेन्यू जनरेट कर रहा है। इतना ही नहीं कर्नाटक में साढ़े आठ करोड़ की आबादी पर 77 हजार करोड़ रुपये और महाराष्ट्र में 11 करोड़ की आबादी पर 85 हजार करोड़ रुपये का रेवेन्यू कामर्शियल टैक्स डिपार्टमेंट जनरेट कर रहा है। अगर आम पब्लि्क से सर्विस टैक्स वसूला जा रहा है तो वह सर्विस टैक्स कहां जा रहा है इसी के लिए अभियान चला कर कार्रवाई की जा रही है।