Tuesday , June 14 2022
Home / पूर्वांचल / जौनपुर / नहीं मिली नकदी तो फूटा गुस्सा

नहीं मिली नकदी तो फूटा गुस्सा

cash-did-not-burst-so-angry_1481741490नोटबंदी के बाद से बैंकों में नकदी की समस्या बरकरार है। बुधवार को घंटों लाइन में लगने के बाद भी जब लोगों को पैसा नहीं मिला तो लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। मड़ियाहूं में लोगों को एसबाई की शाखा के सामने सड़क जाम कर दिया। महराजगंज में ग्राहकों में ही धक्का मुक्की हुई।
 
सुजानगंज में बैंक पर लोगों ने प्रदर्शन कर नारेबाजी की। मड़ियाहूं प्रतिनिधि के अनुसार नगर में स्थित भारतीय स्टेट बैंक के एटीएम पर सुबह पांच बजे से ही लोग लाइन में लग गए थे। करीब दो बजे तक लोगों ने इंतजार किया। दो बजे तक एटीएम बूथ का ताला नहीं खुला तो लोग गांधी तिराहे पर सड़क जाम कर दिए।

कोतवाली प्रभारी सुरेंद्र सिंह ने किसी तरह लोगों को समझा बुझाकर जाम समाप्त करवाया। शाखा प्रबंधक जेजे भगत ने बताया कि कैश की कमी के चलते एटीएम में पैसे नहीं भरे जा रहे हैं। उच्च अधिकारियों को इससे अवगत करा दिया गया है। कैश उपलब्ध होते ही एटीएम सेवा बहाल कर दी जाएगी।

सुजानगंज प्रतिनिधि के अनुसार काशी गोमती संयुत ग्रमीण बैंक की स्थानीय शाखा पर सुबह से ही लोग लाइन में खड़े रहे। देर तक लोगों ने इंतजार किया लेकिन साढ़े ग्यारह बजे तक कोई भी बैंक कर्मचारी नहीं पहुंचा। भीड़ आक्रोशित हो गई। लोगों ने बैंक के सामने जमकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया।

बैंक अधिकारियों के खिलाफ नारे लगाए। आरोप लगाया कि बैंक के अधिकारी अपने चहेतों को भुगतान कर रहे हैं। आम आदमी सुबह से लेकर शाम तक बैंक पर खड़ा है लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। महराजगंज प्रतिनिधि के अनुसार काशी गोमती संयुत ग्रामीण बैंक की गद्दोपुर शाखा लाइन में लगे लोगों में धक्का मुक्की के बीच मारपीट शुरू हो गई।

लोगों के आक्रोश के आगे वहां मौजूद पुलिस भी लाचार दिखी। मनबढ़ों ने बैंक के पास खड़ी बाइक को तोड़ डाला। राजपुर रूखार गांव निवासी डा. पंकज यादव सुबह काशीगोमती ग्रामीण बैक गद्दोपुर शाखा से पॉच हजार रूपये निकाल कर बैंक से बाहर निकलना चाह रहे थे कि भीड अधिक होने के कारण गेट से निकल नहीं पा रहे थे।

वह भीड़ को सामने से हटाना चाह रहे थे लेकिन लोग अपने स्थान से हटना नहीं चाह रहे थे। इसी बीच विवाद हो गया। देखते ही देखते मारपीट हो गई। भीड़ ने उनकी पिटाई कर दी। डा. पंकज की बाइक को भी तोड़ डाला। डा. पंकज का आरोप हा कि उनके पास से पांच हजार रुपया भी छीन लिया गया।